शनिवार, 29 अगस्त 2015

श्रीयुत धीरेन्द्र वर्मा जी के साथ खिंची यह सेल्फी

हिंदी साहित्य का एक कालजयी उपन्यास है "चित्रलेखा"। इसके रचयिता श्री भगवतीचरण वर्मा की आज 112 वीं जयन्ती है ।
  भगवती बाबू ने यह उपन्यास 1934 में लिखा था जिसके छ वर्ष बाद 1940 में पहली बार इस पर आधारित फिल्म "चित्रलेखा" बनाई गयी । दुसरी बाद इस उपन्यास पर आधारित फिल्म 1964 में पुनः बनी और सुपर हिट रही... इस फिल्म से कमाए हुए पैसे से ठीक छ वर्ष बाद 1970 में भगवतीचरण वर्मा ने महानगर लखनऊ में मकान बनाना आरम्भ किया और घर का नाम रखा "चित्रलेखा"। 
100 से अधिक संस्करण वाला उपन्यास "चित्रलेखा" आज 81 वर्ष का हो गया है तथा महानगर की यह "चित्रलेखा" 45 वर्ष की हो गयी है जिसमें आज उनके छोटे पुत्र साहित्यकार श्री धीरेन्द्र वर्मा निवास करते हैं।
  बीती रात यह महानगर "चित्रलेखा" ऐसी दीख रही थी ... उधर से गुजरा तो यह द्रश्य और श्रीयुत धीरेन्द्र वर्मा जी के साथ खिंची यह सेल्फी आपके लिए खीच लाया ....

3 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, सरकार भरोसे नौजवान - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी जानकारी दी आपने भगवतीचरण वर्मा जी के उपन्यास के बारे में
    श्री भगवतीचरण वर्मा

    उत्तर देंहटाएं

  3. सुन्दर रचना ......
    मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन की प्रतीक्षा है |

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/
    http://kahaniyadilse.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लोकप्रिय पोस्ट